Welcome to Disha Homeo Clinic
Ph:- +91 8092844816/ +91 9916631419

News

27th November 2017

Dr Mishelle Lorain Banerjee and Dr Debanjan Banerjee of Disha Homeo Clinic Awarded Doctor Samman By Dainik Jagaran Group.

 

 

 

 

 

 

 8th November 2017

Dr Mishelle Banerjee’s article about Efficacy of Homeopathic Medicines on Children Diseases published in Dainik Jagaran health magazine Arogyam 2017 published on 8th November 2017.

शिशु रोग में होमियोपैथीक दवाई है सबसे कोमल और सुरक्षित|

Dr (Mrs) Mishelle Banerjee

बच्चे हमारी भविष्य है, और इन नन्हे मुन्ने बच्चो की बहतर सेहत हमारी कर्तव्य है| आज कल के बच्चे दूध, दही, रोटी सब्जी नही खाना पसंद करते है, इन्हें चाहिए टॉफी, चॉकलेट्स, चिप्स, और फ़ास्ट फ़ूड| हलाकि यह फ़ास्ट फ़ूड खाने में लजीज होते है परन्तु बच्चो के सेहत को नुकसान करते है|

प्रतिस्पर्धात्मक पाढाई के इस युग में बच्चों के खेल कूद की समय भी कम हो गयी है| इस वजह से अक्सर बच्चो में शारीरिक कम्जोरी, थकावट, कद ना बढ़ना, वजन ना बढ़ना, और आत्मविश्वास में कमी भी देखी जा रही है|

बच्चो को रोजाना फल खिलायें| सेब, केला, नारंगी, अंगूर और खजूर जैसे फल विटामिन से भरपूर है और बच्चो के विकाश में भी मदत करते है| फ़ास्ट फ़ूड को त्यागे, घरेलु खाना में ही शारीरिक तंदुरुस्ती का राज़ छुपा है| बच्चो को मिठाई, टॉफी, चिप्स, कुरकुरे से दूर रखे, रोजाना दूध और दही से हड्डी मजबूत होती है और शरीर में ताकत भी आती है| बच्चो के दिमागी विकाश पर ज्यादा ध्यान दे, बादाम, अखरोट, काजू  में दिमाग को तेज करने वाली मिनरल पाए जाते है|

बच्चो के सभी बिमारिओ में होमियोपैथीक दवाइयाँ बेहत असरदार होते है| होमियोपैथीक दवाइयाँ बेहत सुरक्षित और कोमल होती है| होमियोपैथीक दवाइयों से किसी भी प्रकार के साइड इफ़ेक्ट नही होती है और बच्चो के बिमारिओ में यह दवाइयाँ तेजी से अपना काम करती है| होमियोपैथीक दवाइयाँ खाने में मीठा होने के कारण बच्चो को बेहत पसंद है|

बच्चो को भूक ना लगना, पेट मे कीड़े होना, कद में बड़ोत्री न होना,  बार बार सर्दी जुखाम पकड़ना, टोंसिलईटीस,  रोग निरोधक शक्ति में कमी , नींद में पेशाप करना, दांत आने के समय बुखार आना,  पेट ख़राब होना,  दूध पीने के बाद उलटी करना, त्वचा पर खुजली, दिमागी कमजोरी, एलर्जी, इन सबका होमियोपैथी द्वारा आसानी और पूर्णरूप से इलाज किया जा सकता है| जन्म से पंद्रह साल के उम्र तक बच्चो को केवल होमियोपाथीक इलाज करवाने से भविष्य में उनको कई सारे बिमारियो से बचाया जा सकता है|

माता पिता यह हमेशा याद रखे आज के बच्चे कल के भविष्य है और इनकी तंदरुस्ती आप के हाथो में है|

26th September 2017

Disha Homeo Clinic Co- Sponcering Dandiya Nite 2017, to be held at Panchsheel, Dhanbad on 26th September 2017.